Partition of Bengal (1905 AD)



On July 20, 1905, the decision of the Partition of Bengal was announced, as a result of which the Swadeshi movement was born in Calcutta on August 7, 1905, in the ‘Town Hall’.

The historic ‘boycott motion’ was accepted in this meeting. With the announcement of the partition of Bengal on October 16, 1905, the partition became effective. This is known as the anti-Bang-Bhang movement.

Partition of Bengal Effect

The partition of Bengal came into effect on 16 October 1905. This day was celebrated as ‘Mourning Day’ all over Bengal.

On the suggestion of Rabindranath Tagore • This day was celebrated as “Rakhi Day” all over Bengal.

Objective: By dividing Bengal, the British cannot reduce the unity. The next day Anand Mohan Bose and Surendranath Banerjee addressed 2 huge public meetings History of the Indian National Movement. The message of Swadeshi movement and boycott movement spread all over the country. Tilak and his daughter Ketkar propagated it in Maharashtra.

Ajit Singh, Lala Lajpat Rai, Swami Shraddhanand, Jaipal and Gangaram took this movement to the areas of Punjab and Uttar Pradesh. Syed Haider Khan led this movement in Delhi.

Chidambaram Pillai, Subramaniam Iyer, Anand Chalu and T.M. Leaders like Nayak led it in the Madras Presidency. In North India, the Swadeshi movement intensified in Rawalpindi, Kangra, Multan and Haridwar.

While presiding over the Banaras session of the Congress in 1905, Gopal Krishna Gokhale also supported the Swadeshi and Boycott movement. Extremist party leaders Bal Gangadhar Tilak, Vipinchandra Pal, Lala Lajpat Rai (alias: Trigut-Bal, Pal, Lal) and Arvind Ghosh tried to spread this movement across the country.

While presiding over the Calcutta Congress session in 1906, Dadabhai Nauriji presented the demand for independence for the first time. As a result, the British government formed a committee under the leadership of Arundel.

Arundel Committee (1906) The then Viceroy Minto-II constituted the ‘Arundel Committee’ in August 1906 to give advice on political reforms. This committee emphasized on divisiveness.

Read in Hindi (बंगाल विभाजन)

20 जुलाई, 1905 को बंगाल विभाजन के निर्णय की घोषणा की गई, जिसके फलस्वरूप 7 अगस्त, 1905 को कलकत्ता के ‘टाउन हॉल’ में स्वदेशी आंदोलन का जन्म हुआ।

इस बैठक में ऐतिहासिक ‘बहिष्कार प्रस्ताव’ को स्वीकार किया गया। 16 अक्टूबर, 1905 को बंगाल विभाजन की घोषणा के साथ ही विभाजन प्रभावी हो गया। इसे बंग-भंग विरोधी आंदोलन के नाम से जाना जाता है।

16 अक्टूबर 1905 को बंगाल का विभाजन प्रभाव में आया। इस दिन को पूरे बंगाल में ‘शोक दिवस’ के रूप में मनाया गया।

रवींद्रनाथ टैगोर के सुझाव पर • इस दिन को पूरे बंगाल में “राखी दिवस” ​​के रूप में मनाया गया।

उद्देश्य: बंगाल को विभाजित करके, अंग्रेज एकता को कम नहीं कर सकते। अगले दिन आनंद मोहन बोस और सुरेंद्रनाथ बनर्जी ने 2 विशाल जनसभाओं को संबोधित किया। भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का इतिहास। स्वदेशी आंदोलन और बहिष्कार आंदोलन का संदेश पूरे देश में फैल गया। तिलक और उनकी पुत्री केतकर ने महाराष्ट्र में इसका प्रचार किया।

अजीत सिंह, लाला लाजपत राय, स्वामी श्रद्धानंद, जयपाल और गंगाराम ने इस आन्दोलन को पंजाब और उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों तक पहुँचाया। सैयद हैदर खान ने दिल्ली में इस आंदोलन का नेतृत्व किया।

चिदंबरम पिल्लई, सुब्रमण्यम अय्यर, आनंद चालू और टी.एम. नायक जैसे नेताओं ने मद्रास प्रेसीडेंसी में इसका नेतृत्व किया। उत्तर भारत में, रावलपिंडी, कांगड़ा, मुल्तान और हरिद्वार में स्वदेशी आंदोलन तेज हो गया।

1905 ई. में कांग्रेस के बनारस अधिवेशन की अध्यक्षता करते हुए गोपाल कृष्ण गोखले ने भी स्वदेशी व बहिष्कार आन्दोलन को समर्थन प्रदान किये। उग्रवादी दल के नेता बाल गंगाधर तिलक, विपिनचन्द्र पाल, लाला लाजपत राय (उपनाम: त्रिगुट-बाल, पाल, लाल) एवं अरविंद घोष ने पूरे देश में इस आन्दोलन को फैलाने का प्रयास किये।

1906 ई. में कलकत्ता कांग्रेस अधिवेशन की अध्यक्षता करते हुए दादा भाई नौरीजी ने प्रथम बार स्वराज्य की मांग प्रस्तुत किये। इसके फलस्वरूप ब्रिटिश सरकार ने अरुण्डेल के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन हुआ।

अरुण्डेल कमेटी (1906) तत्कालीन वायसराय मिण्टो-II ने राजनीतिक सुधारों के विषय में सलाह देने के लिए अगस्त 1906 ई. ‘अरुण्डेल कमेटी’ का गठन किया। इस कमेटी ने विभाजित ता पर बल दिया।

Related Post:

Surat session of Congress (1907 AD)

Partition of Bengal (1905 AD)

Partition of Bengal (1905 AD)

Partition of Bengal (1905 AD)

Partition of Bengal (1905 AD)

Partition of Bengal (1905 AD)

FAQ: Partition of Bengal

Q. Who was the viceroy of india at the time of Partition of Bengal?

Ans. Lord Curzon

Q. In which year was the partition of Bengal Cancelled?

Ans.1911 by viceroy Lard Hardinge

Q. ‘Arundel Committee’ was formed……?

Ans. Arundel Committee (1906) then Viceroy Minto-II

Q. When was the demand for Swarajya raised for the first time?

Ans. While presiding over the Calcutta Congress session in 1906, Dadabhai Nauriji presented the demand for independence for the first time.

Leave a Comment