Mughal Samrajya (1526-1857 ई.): मुग़ल साम्राज्य के शासक



मुगल साम्राज्य NCERT

मुग़ल साम्राज्य (1526-1857 ई.): Mughal Samrajya [ दिल्ली सल्तनत ] के पश्चात भारत में मुगलवंश का शासन आरंभ हुआ। मुग़ल साम्राज्य की स्थापना बाबर ने 1526 ई. में की थी। उसके उत्तराधिकारियों अकबर, जहांगीर, शाहजहां और औरंगजेब के समय में मुगल साम्राज्य (Mughal Samrajya) की शक्तिऔर समृद्धि में उत्तरोत्तर विकास हुआ

समस्त भारत पर अपनी सत्ता स्थापित कर मुगलों ने एक सुदृढ़ प्रशासनिक व्यवस्था को स्थापित किये थे। मुग़ल काल आर्थिक समृद्धि, कलात्मक एवं सांस्कृतिक उपलब्धियों के लिए भी विख्यात हो गया। 1707 ई. को मुगलवंश के अंतिम महान सम्राट औरंगजेब की मृत्यु के साथ ही मुगल साम्राज्य (Mughal Samrajya) के पतन की प्रक्रिया आरंभ हुईं।

मुग़ल साम्राज्य (1526-1857 ई.)

1526 ई. में पानीपत के प्रथम युद्ध में दिल्ली सल्तनत के अंतिम वंश [ लोदीवश ] के सुल्तान इब्राहीम लोदी के पराजय के साथ ही भारत में मुगल वंश की स्थापना हुई। इस वंश का संस्थापक जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर था।

मुगलों का राज्य व उसका गौरव धीरे-धीरे विलुप्त होने लगा। भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी के शासन के आरंभ होते ही मुगलों की शक्ति व प्रतिष्ठा भी नष्ट हो गई। मुगल सम्राट का स्थान कंपनी शासन ने ले लिया। मुगल नाममात्र के सम्राट बने रहे। 1857 ई. के विद्रोह के दौरान कंपनी ने अंतिम मुगल सम्राट बहादुरशाह जफर को गद्दी से हटाकर भारत में मुगलवंश (Mughal Samrajya) का शासन सदैव के लिए समाप्त कर दिया।

List of Mughal Samrajya Rulers

मुगल काल के शासक : Mughal Samrajya History

1.बाबर (1526-30 ई.)2. हुमायूँ (1530-1540 ई.) – (1555-1556 ई.)
3. अकबर (1556-1605 ई.) 4. जहांगीर (1605-1627 ई.) 
5. शाहजान (ख़ुर्रम) (1628-1658 ई.) 6. औरंगज़ेब (आलमगीर) (1658-1707 ई.) 
7. बहादुर शाह प्रथम (1530-1540 ई.) 8. फ़र्रुखशियार (1713 – 1719)
9. शाहजहां द्वितीय 171910. मुहम्मद शाह (1719 – 1748)
11. अहमद शाह बहादुर (1748 – 1754)12. आलमगीर द्वितीय (1754 – 1759)
12. शाह जहाँ तृतीय  (1759 – 1760)14. शाह आलम द्वितीय (1760 – 1806
13. अकबर द्वितीय (1806 – 1837)16. बहादुर शाह द्वितीय (1837-1857 ई.) 

मुगल कौन थे?

मंगोल + तुर्की = मुगल। मुगल महान शासक वंशों के वंशज थे। माता की ओर से वे चीन व मध्य एशिया के मंगोल शासक चंगेज खान के उत्तराधिकारी थे। पिता की ओर से वे ईरान, इराक व तुर्की के शासक तिमूर के वंशज थे। परंतु मुगल अपने को मुगल या मंगोल कहलाना पसंद नहीं करते थे। ऐसा इसलिए था, क्योंकि चंगेज खान से जुड़ी स्मृतियां सैकड़ों व्यक्तियों के नरसंहार से संबंधित थीं। यही स्मृतियां मुगलों के प्रतियोगियों उज्बेगों से भी संबंधित थी। दूसरी तरफ मुगल तिमूर के वंशज होने पर गर्व का अनुभव करते थे, क्योंकि उनके इस महान पूर्वज ने 1398 में दिल्ली पर नियंत्रण कर लिये थे।

मुगल शासक व मकबरे

शासक मकबरे
1. बाबरआगरा/काबुल
2. हुमायूंदिल्ली
3. अकबरआगरा(सिकंदरा)
4. जहांगीरलाहौर(शाहदरा)
5. शाहजहांआगरा
6. औरंगजेबऔरंगाबाद(दौलताबाद)

दीवान-ए-खास

दीवान-ए-खास अकबर द्वारा बनाया गया वह हाल है जिस स्थल पर बैठकर दरबार के विशेष व्यक्ति राजा के साथ सलाह किया करते थे। अपने विशेष व्यक्तियों के साथ रियासत की समस्याओं व गंभीर मुद्दों पर चर्चा करते थे।

दीवान-ए-आम

यह हॉल आम जनता के लिए बनवाया गया था। यहां पर अकबर सामान्य 21 व्यक्तियों से मिलते थे और उनकी समस्याओं व अन्य मुद्दों को सुनकर उसका समाधान निकालते थे।

बुलंद दरवाजा

55 मीटर ऊंचे इस दरवाजे को अकबर ने अपनी गुजरात विजय की स्मृति में बनाया था। इसी दरवाजे के सम्मुख जामा मस्जिद है और साथ ही शेख सलीम चिश्ती की दरगाह भी है।

2. जामा मस्जिद के निर्माण के 5 वर्ष बाद बुलंद दरवाजे का निर्माण किया गया। यह एशिया का सबसे ऊंचा गेट-वे कहा जाता है।

सलीम चिश्ती दरगाह

मस्जिद के उत्तर में महान सूफी संत शेख सलीम चिश्ती की दरगाह है। ये वही संत थे जिनकी दुआओं और आर्शीवाद के फलस्वरूप अकबर को संतान होने का सुख मिला था। इसी संत के सम्मान स्वरूप अकबर ने अपनी राजधानी आगरासे फतेहपुर सीकरी हस्तानांतरित की थी। यह दरगाह सफेद संगमरमर से बनी है।

फतेहपुर सीकरी

उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के अंतर्गत आने वाला स्थल फतेहपुर सीकरी है। 1527 ई.की खानवा की लड़ाई के दौरान बाबर जब इस स्थल पर प्रथम बार आया और लड़ाई जीतने के पश्चात इस स्थल को सीकरी नाम दिया। अकबर ने 1571 में इसे अपनी राजधानी का रूप दिया। राजधानी को आगरा से यहां लाने का उद्देश्य अकबर का सीकरी के सूफी संत शेख सलीम चिश्ती को सम्मान देना था क्योंकि शेख सलीम चिश्ती के आशीर्वाद और दुवाओं के फलस्वरूप अकबर को संतान प्राप्त हुई थी। इसी खुशी में अकबर ने इस स्थल को फतेहबादनाम दिया जो बाद में फतेहपुर सीकरी नाम से प्रसिद्ध हुआ।

1580 ई. में यहां आने वाले प्रथम जेस्सुइट मिशन का नेतृत्व फादर एकाबीवा ने किया था। 15 वर्षों तक फतेहपुर सीकरी अकबर की रियासतकालीन राजधानी रही। लेकिन जल की कमी के कारण बाद में इसे पुनः आगरा बना दिया गया।

यह स्थल यूनेस्को की विश्व धरोहरों में 1986 में शामिल हुआ। फतेहपुर सीकरी को मुगल बादशाह अकबर ने 1569 में बसाया था। सीकरी मुगलों का प्रथम नियोजित शहर माना जाता है। इसके निर्माण का ढांचा बहाउद्दीन ने तैयार किया था।

पंचमहल

फतेहपुर सीकरी के इस परिसर में 5 मंजिलावाला वह भवन है, जो किले की विशेष महिलाओं व दासियों के लिए बनवाया गया था। इसमें मीना बाजार लगायी जाती थी जिसमें राजशाही परिवार की महिलाएं क्रय-विक्रय करती थी।

ताजमहल

इसका निर्माण शाहजहां ने अपनी प्रिय पत्नी मुमताज महल (अरजुमंद बानो – बेगम) की स्मृति में करवाया था। मुमताज महल की मृत्यु 1633 ई. में 14वें बच्चे (गौहर आरा बेगम) के प्रसव पीड़ा के दौरान बुरहानपुर में हुईं, उसी की कब्र पर शाहजहां ने स्मृति में ताजमहल बनवाया था। यह आगरा में यमुना नदी के किनारे स्थित है। ताजमहल को एक वफादार आशिक का खिराज कहा जाता है तथा काव्यात्मक रूप में संगमरमर में संवेदनशील शोकगीत के रूप में वर्णित किया गया है।

ताजमहल

ताजमहल के मुख्य स्थापत्यकार उस्ताद अहमद लाहौरी था, जिसे नादिर-उल-असरार की उपाधि प्रदान की गयी थी तथा मुख्य निर्माता फारस का मुहम्मद ईसा खां था। ताजमहल का निर्माण कार्य 1631 ई. में प्रारंभ हुआ तथा 1653 ई. में 22 वर्षों में बन कर तैयार हुआ। इसके निर्माण में लगभग 3 करोड़ रुपये का व्यय हुआ था। ताजमहल के निर्माण में मकराना के संगमरमर का प्रयोग किया गया है। किंतु इसके दोनों और मस्जिदें स्थित हैं जिनका निर्माण लाल पत्थरों द्वारा हुआ है। इसमें 2 समाधियां (1. मुमताज महल, 2. शाहजहां) है। वर्ष 1983ई. में यूनेस्को के विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया।

FAQ Sections

1. मुगल लोग कौन थे?

उत्तर –मंगोल + तुर्की = मुगल। मुगल महान शासक वंशों के वंशज थे। माता की ओर से वे चीन व मध्य एशिया के मंगोल शासक चंगेज खान के उत्तराधिकारी थे। पिता की ओर से वे ईरान, इराक व तुर्की के शासक तिमूर के वंशज थे। परंतु मुगल अपने को मुगल या मंगोल कहलाना पसंद नहीं करते थे।

2. मुगल साम्राज्य की स्थापना कब और किसने की?

उत्तर – मुग़ल साम्राज्य की स्थापना बाबर ने 1526 ई. में की थी।

3. 1527 में खानवा का युद्ध किसके बीच लड़ा गया था?

उत्तर – बाबर ने राणा सांगा (मेवार शासक) को हराया। खानवा का युद्ध (16 मार्च, 1527 ई.) जीतने के बाद बाबर ने गाजी की उपाधि धारण की थी

4. मुगल साम्राज्य का आखिरी शासक कौन था?

उत्तर – बहादुर शाह जफर की मौत 1862 में 87 साल की उम्र में बर्मा (अब म्यांमार) की तत्कालीन राजधानी रंगून (अब यांगून) की एक जेल में हुई थी

Leave a Comment