इनपुट डिवाइस क्या है?



इस आर्टिकल में हम जानेंगे की इनपुट डिवाइस (Input Device in hindi) क्या है? इनपुट डिवाइस के 10 उदाहरण? 5 इनपुट डिवाइस के नाम, इनपुट डिवाइस के नाम, इनपुट डिवाइस किसे कहते हैं?

Input Device in hindi
Input Device in Hindi – Input Device Kya hai

वे सभी डिवाइस जिनका उपयोग आंकड़ों अथवा निर्देशों को कंप्यूटर में प्रविष्टि करने के लिए किया जाता है, इनपुट डिवाइस (Input Device in Hindi) कहलाती हैं।

इनपुट डिवाइस क्या है- Input device in Hindi

दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि मानवीय भाषा में प्रविष्ट (Enter) किए जा रहे आंकड़े (Data) या प्रोग्राम (Program) को कंप्यूटर के समझने योग्य रूप में परिवर्तन करने के लिए प्रयोग की जाने वाली युक्तियों को इनपुट युक्तियां (Input Devices) कहा जाता है।

ये डिवाइस अक्षरों, अंकों तथा अन्य विशिष्ट चिह्नों को बाइनरी अंक अर्थात 0 तथा 1 में परिवर्तित करके सी. पी. यू. के समझने योग्य बनाती हैं। इनपुट युक्तियां कंप्यूटर हार्डवेयर का भाग हैं, जिनके द्वारा कंप्यूटर को डाटा और कंट्रोल सिग्नल प्रदान किया जाता है। की-बोर्ड इनपुट के लिए सबसे अधिक उपयोग की जाने वाली युक्ति (Device) है।

कुछ प्रमुख इनपुट डिवाइस के 10 उदाहरण के नाम निम्नलिखित हैं-

  • 1. की-बोर्ड (Key Board)
  • 2. माउस (Mouse)
  • 3. ट्रैक बॉल (Track Ball)
  • 4. जॉयस्टिक (Joystick)
  • 5. स्कैनर (Scanner)
  • 6. माइक्रोफोन (Microphone)
  • 7. वेब कैमरा (Web Camera )
  • 8. बार कोड रीडर (Bar Code Reader)
  • 9. ओसीआर (OCR-Optical Character Recognition)
  • 10. एमआईसीआर (MICR Magnetic Ink Character Recognition)
  • 11. ओएमआर (OMR Optical Mark Reader)
  • 12. लाइट पेन (Light Pen)
  • 13. टच स्क्रीन (Touch Screen)
  • 14. टच पैड (Touch Pad)
  • 15. बायामेट्रिक सेंसर (Biometric Sensor)
  • 16. पंच कार्ड रीडर (Punch Card Reader)
  • 17. किमबॉल टैग रीडर (Kimball Tag Reader)
  • 18. स्पीच रेकग्निशन सिस्टम (Speech Recognition System)
  • 19. ग्राफिक टेबल (Graphic Table)

Input Device Kya hai – इनपुट डिवाइस (Input Device in hindi)

की-बोर्ड (Key-Board)

की-बोर्ड (Key-Board) टाइपराइटर के समान कुंजियों वाला उपकरण होता है। की-बोर्ड में किसी बटन को दबाने के पश्चात इलेक्ट्रिकल सर्किट बंद हो जाती है ऐसी स्थिति में की-बोर्ड एक सिग्नल देता है, जो यह बताता है कि मॉनिटर पर क्या प्रदर्शित होगा? अक्षर या अंक। नोट : इंग्लिश क्वार्टी (Qwerty) की-बोर्ड 40 प्रकार के प्रतीक (Symbol) पाए जाते हैं।

Key-Board

भिन्न-भिन्न कंप्यूटर सिस्टम के लिए अलग-अलग की-बोर्ड की सुविधा है। इस प्रकार की-बोर्ड में कुंजियों की संख्या भी भिन्न-भिन्न होती है। उदाहरण के लिए कुछ की-बोर्ड नीचे दिए गए हैं-

(a) विंडो की-बोर्ड – 104 कुंजी (Key) (b) विंडो आधारित लैपटॉप में – 86 कुंजी (Key)

(c) परंपरागत की-बोर्ड – 101 कुंजी (Key)

(d) IBM (1981) -83 कुंजी (Key)

(e) एप्पल के तार रहित (Wireless) की-बोर्ड में 78 कुंजी Key)

(f) न्यूमेरिक की-पैड के साथ एप्पल की-बोर्ड में – 109 कुंजी (Key)

की-बोर्ड (Key Board) की संरचना (Structure) के आधार (Base) पर इसकी कुंजियों (Keys) को छः भागों (Parts) में बांटा जा सकता है-

(i) अल्फान्यूमेरिक कुंजियां (Alphanumeric Keys )

(ii) न्यूमेरिक कुंजियां (Numeric Keys)

(iii) फंक्शन कुंजियां (Function Keys)

(iv) विशेष उद्देश्य कुंजियां (Special Purpose Keys)

(v) संशोधक कुंजियां (Modifier Keys)

(vi) कर्सर कुंजियां (Cursor Keys)

अल्फान्यूमेरिक कुंजियां (Alphanumeric Keys)- अल्फान्यूमेरिक कुंजी के ऊपर अंग्रेजी के सभी अक्षर (Letter) A से Z तक लिखे होते हैं। इस कुंजी (Key) का उपयोग कंप्यूटर में लेखन कार्यों के लिए किया जाता है।

न्यूमेरिक कुंजियां (Numeric keys) – न्यूमेरिक कुंजी को कैलकुलेटर कुंजी भी कहते हैं। न्यूमेरिक कुंजी का उपयोग संख्याओं को लिखने में किया जाता है। न्यूमेरिक कुंजी में प्रायः 17 कुंजियां (Keys) होती हैं। जिसमें 0 से 9 तक के अंक (Digit), गणितीय संक्रिया (Mathematical Operations), जैसे-, / + तथा Enter Key, Num Lock होते हैं।

फंक्शन कुंजियां (Function Keys) – की-बोर्ड (Keyboard) में फंक्शन कुंजियों की संख्या बारह होती है जो F1, F2, F3, F4, F5, F6, F7, F8, F9, F10, F11,F12 तक होती हैं।

फंक्शन कुंजी (Function Key) F1 से F12 का उपयोग

F1F1- Open Help
Windows Key + F1 -Open Windows Help and Support Center
Ctrl + F1 – Open Task Pane
F2F2 – Rename Files or Folders.
Ctrl + F2 – Open Print Preview in M.S. Word
Alt + Shift + F2 – Open Save or as Window M.S. Word
F3F3- विंडोज (Windows) में Search Option Active करने के लिए
Shift + F3 Highlighted Text को Lower Case में बदलने के लिए
F4F4 Open Address Bar
Alt + F4 – Close Active Window
Alt + F4 – Shut Down, Restart, Sleep, Switch Use
F5F5 – Refresh Windows
F5- Refresh Folders Content List
F5 – Start Page
Ctrl + F5 – Complete Refresh
F6F6-Speaker Volume Down
F6 – Take Cursor in Address Bar
Ctrl + Shift + F6 – Previous Window
Ctrl + F6 – Next Window
F7Alt + F7 – Toggle Text Clips Window को
F7 – Spelling Check in MS Office
Shift + F7 – Thesaurus Check in MS Office
F8 F8 – Start Safe Mode
F9F9 फंक्शन कुंजी का उपयोग लैपटॉप में स्क्रीन की
Brightness को कम करने के लिए किया जाता है
F10F10 – Increase Screen Brightness in Laptop
Shift+F10-Open Right-Click Menu
F11F11 फंक्शन कुंजी का उपयोग डेस्कटॉप के पूर्ण स्क्रीन मोड को
प्रारंभ (Open) और बंद (Close) करने के लिए किया जाता है।
F12F12 – Open Developer Tool in Browser
F12 – Open Save as Window in Word

माउस (Mouse)

माउस का आविष्कार (Invention) डगलस कार्ल एंजेलबर्ट ने किया था, तब उन्होंने माउस को लकड़ी से बनाया था। माउस एक प्रकार की निविष्ट युक्ति है. माउस का वास्तविक नाम संकेतन युक्ति है। माउस का आकार प्लास्टिक के चूहे के समान होता है। माउस में सामान्यतः तीन बटन होते हैं, पहला तथा दूसरा बटन क्रमशः प्राथमिक/बायां बटन (Primary / Left Button) तथा द्वितीयक/दायां बटन (Secondary/Right Button) के नाम से जाना जाता है।

mouse

इसके तीसरे बटन को स्क्रॉल पहिया (Scroll Wheel) या चक्रण (Spin) कहते हैं, माउस (Mouse) द्वारा किए जाने वाले कार्य निम्न हैं- क्लिकिंग (Clicking), दोहरा क्लिकिंग (Double Clicking), दायां क्लिकिंग (Right Clicking), ड्रैगिंग (Dragging), स्क्रोलिंग (Scrolling)

ट्रेक बॉल (Track Ball)

ट्रेक बॉल यांत्रिक माउस की तरह एक संकेतन युक्ति (Pointing Device) है। ट्रेक बॉल द्वारा कंप्यूटर में निविष्ट देने के लिए हमें अपनी अंगुली या अंगूठे की सहायता से गेंद को घुमाना पड़ता है। ट्रेक बॉल की गति तेज होती है, इसलिए इसे नियंत्रित करना कठिन होता है। ट्रेक बॉल का अधिकतम उपयोग लैपटॉप और मोबाइल (Mobile) आदि में किया जाता है।

जॉयस्टिक (Joystick)

जॉयस्टिक निविष्ट युक्ति के साथ- साथ एक संकेतन युक्ति भी है। जॉयस्टिक का उपयोग कंप्यूटर में कर्सर या प्वाइंटर की गति को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। जॉयस्टिक को सभी दिशाओं में घुमाया जा सकता है। जॉयस्टिक का उपयोग वीडियो गेम्स, फ्लाइट सिमुलेटर, ट्रेनिंग सिमुलेटर और औद्योगिक रोबोट को रिमोट द्वारा नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।

OCR

स्कैनर (Scanner)

स्कैनर एक निविष्ट युक्ति है, स्कैनर का उपयोग करके पृष्ठ पर बनी आकृति या पृष्ठ पर लिखित सूचना को सीधे कंप्यूटर में निविष्ट किया जाता है। स्कैनर एक चमकीली रोशनी को दस्तावेज के ऊपर डालता है, जिससे रोशनी परावर्तित होकर दस्तावेज की छवि (Image) को कंप्यूटर पर स्कैन कर लेती है। स्कैनर का मुख्य लाभ यह है कि उपयोगकर्ता को सूचना टाइप नहीं करनी पड़ती है।

माइक्रोफोन (Microphone)

माइक्रोफोन का आविष्कार (Invention) एमिली बर्लिनर (Emile Berliner) ने किया था। माइक्रोफोन एक निविष्ट युक्ति है। माइक्रोफोन के द्वारा ध्वनि (Sound) को डिजिटल आंकड़ा में परिवर्तित किया जाता है। माइक्रोफोन (Microphone) का उपयोग आवाज रिकॉर्डर, टेलीफोन, रेडियो और टेलीविजन प्रसारण तथा गायन (Singing) आदि में किया जाता है। माइक्रोफोन के द्वारा ध्वनि तरंगों को विद्युत तरंगों में परिवर्तित किया जाता है

वेब कैमरा (Web Camera)

वेब कैमरा एक निविष्ट युक्ति है। यह एक प्रकार का छोटा डिजिटल कैमरा है। वेब कैमरा की सहायता से किसी व्यक्ति या छवि का विडियो बनाया जा सकता है। वेब कैमरा अधिकतर लैपटॉपों में लगा हुआ आता है। इस कैमरा को तार की सहायता से कंप्यूटर के USB पोर्ट से जोड़ा जा सकता है। वेब कैमरा का उपयोग अधिकतर इंटरनेट की सहायता से विडियो कॉलिंग करने में किया जाता है।

बार कोड रीडर (Bar Code Reader)

बार कोड रीडर एक प्रकार की निविष्ट युक्ति है। बार कोड रीडर को मूल्य स्कैनर या प्वाइंट ऑफ सेल भी कहा जाता है। उपर्युक्त चित्र में एक बार कोड दिखाया गया है, जिसमें पतली और मोटी लाइनों की एक श्रृंखला होती है, इन लाइनों को बार कहा जाता है, इन लाइनों की जो कोडिंग होती है, वह लाइन की लंबाई से नहीं, अपितु उसकी मोटाई से होती है। बार कोड को पढ़ने के लिए बार कोड रीडर का उपयोग किया जाता है।

ओसीआर (OCR)

ओसीआर एक प्रकार का निविष्ट उपकरण है। ओसीआर का पूरा नाम प्रकाशीय वर्ण पहचान (Optical Character Recognition) है। यह एक प्रकार का स्कैनर (Scanner) है। इसका उपयोग विशेष प्रकार के चिह्नों, अक्षरों या संख्याओं (Number) को पढ़ने के लिए किया जाता है। इन अक्षरों को प्रकाश स्रोत के द्वारा पढ़ा जा सकता है। ओसीआर उपकरण द्वारा टाइपराइटर से छपे हुए अक्षरों, कैश रजिस्टर के अक्षरों एवं क्रेडिट कार्ड के अक्षरों को पढ़ा जा सकता है।

एमआईसीआर (MICR)

एमआईसीआर का पूरा नाम मैगनेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉग्निशन है। इसका अधिकतर उपयोग बैंक में चेक भुगतान के लिए किया जाता है। एमआईसीआर कोड (MICR Code) चेक के नीचे (MICR Bottom) लिखा होता है, जिसे एमआईसीआर बैंड कहते हैं। एमआईसीआर कोड को पढ़ने के लिए एमआईसीआर रीडर का उपयोग किया जाता है। माना किसी बैंक का कोड 211024004 है तो इसमें 211- शहर का नाम, 024- बैंक के नाम का कोड, 004 – बैंक ब्रांच के कोड को प्रदर्शित करता है।

ओएमआर (OMR)

ओएमआर एक प्रकार की निविष्ट युक्ति है, ओएमआर का पूरा नाम ऑप्टिकल मार्क रीडर है। ओएमआर (OMR) एक विशेष (Special) प्रकार का स्कैनर (Scanner) होता है, जो विशेष प्रकार के चिह्नों या संकेतों को पहचानने (Identity) के लिए अभिकल्पित है।

लाइट पेन (Light Pen)

लाइट पेन एक प्रकार की निविष्ट युक्ति (Input Device) अथवा एक संकेतन युक्ति (Pointing Device) है। इसका उपयोग आंकड़ों (Data) को चयनित करने या संशोधित करने के लिए किया जाता है। इसका अधिकतम उपयोग कैथोड रे ट्यूब मॉनीटर के आंकड़ो (Data) पर प्रकाश डालने के लिए किया जाता है। यह VDU (Visual Display Unit) से जुड़ा होता है। यह फोटो सेंसेटिव डिवाइस होता है एवं आकार में बहुत छोटा होता है, इसलिए इसका उपयोग आसानी से किया जा सकता है।

टच स्क्रीन (Touch Screen)

टच स्क्रीन एक प्रकार की निविष्ट युक्ति अथवा इलेक्ट्रॉनिक दृश्य डिस्प्ले होता है, जिस पर प्रयोगकर्ता (User) अपनी उंगलियों द्वारा स्क्रीन को नियंत्रित करता है। टच स्क्रीन का अधिकतम उपयोग कंप्यूटर लैपटॉप, मॉनीटर (Monitor), स्मार्टफोन (Smart Phone), नोटबुक (Note book), कैश-रजिस्टर (Cash Registers) आदि में किया जाता है। बायोमेट्रिक सेंसर (Biometric Sensor) के आंकड़ों की प्रतिलिपि नहीं बनाई जा सकती है।

पंच कार्ड रीडर (Punch Card Reader)

पंच कार्ड कठोर पृष्ठों से बना हुआ कार्ड होता है। इसमें अंकीय आंकड़ों को संचित किया जाता है। पंच कार्ड में जगह-जगह पर कुछ छिद्र होते हैं, जिसकी सहायता से पंच कार्ड आंकड़ों को संचित करता है। पंच कार्ड को अंतरराष्ट्रीय व्यवसाय मशीन, (International Business Machines- IBM) कार्ड और होललेरिथ कार्ड के नाम से भी जाना जाता है। इसका अधिकतम उपयोग उद्योग जगत में आंकड़ों को एकत्रित करने के लिए किया जाता है।

Leave a Comment