बाबर (1526-1530 ई.) Babar History in hindi



Babar History in hindi: बाबर (Babur) ने भारत पर प्रथम आक्रमण बाजौर पर 1519 ई. में यूसुफजाई जाति के विरूद्ध किया था। परन्तु उसका प्रथम महत्वपूर्ण आक्रमण 1526 ई. में हुआ। मुग़ल साम्राज्य (1526-1857 ई.) लगभग 300 सालों तक भारत पर शासन किया। मुग़ल वंश-Mughal Emperor का संस्थापक जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर था।

बाबर के इतिहास की जानकारी – Babar History in Hindi

Babar History in Hindi
Babar History in Hindi जहीर-उद-दीन मुहम्मद बाबर (Babar) के इतिहास की जानकारी

बाबर का इतिहास का जीवन परिचय

जन्म 14 फरवरी, 1483 ई. को अफगानिस्तान के फरगना के अंदीजन
नाम (Name)जहीर-उद-दीन मुहम्मद बाबर (Babar)
माता का नामकुतलुग निगार (मंगोल वंश)
पिता का नामउमर शेख मिर्जा (चगताई तुर्क) वश: मुगलिया (तिमरी वंश)
समकालीनःकृष्ण देव राय (विजयनगर शासक),
नुसरत शाह (बंगाल शासक)
उपाधिःतिमूरी परंपरा के विरूद्ध प्रथम बार मिर्जा के स्थान पर पादशाह (बादशाह) की उपाधि 1507 में काबुल विजय के उपरांत धारण किया था।
युद्ध शिक्षा:उज्बेगो से तुलगुमा व्यूह प्रणाली, ईरानियों से बंदूकों का प्रयोग, तुर्को से घुड़सवारी, मंगोल व अफगानों से व्यूह रचना की प्रणाली सीखी थी।
पत्नियाँ (Wife Name)1. आयेशा सुलतान बेगम,
2. जैनाब सुलतान बेगम,
3. मौसमा सुलतान बेगम,
4. महम बेगम,
5. गुलरुख बेगम,
6. दिलदार बेगम,
7. मुबारका युरुफझाई,
8. गुलनार अघाचा
मृत्यु (Death)प्रो. सतीशचंद्रा के अनुसार मृत्यु लाहौर के निकट हुई,लेकिन बाबरनामा से स्पष्ट होता है कि बाबर की मृत्यु आगरा में 26 दिसंबर, 1530 ई. को हुई थी। गुलबदन बेगम (बाबर की पुत्री) की हुमायूंनामा के अनुसार इब्राहिम लोदी की मां के द्वारा जहर दिये जाने के कारण से हई थी।
दफन व मकबराःआगरा के आरामबाग (नरबाग) में दफनाया गया इनकी अस्थियों को इच्छानुसार विधवा पत्नी मुबारक युसुफजई ने शेरशाह के शासनकाल में काबुल के उद्यान में दफनाया गया।
सिक्के (Coins)बाबर ने काबुल में चांदी का शाहरूख तथा कंधार में बाबरी नामक सिक्का चलाया। उसके चांदी के सिक्को पर एक तरफ कलमा और चारों खलीफाओं का नाम तथा दूसरी ओर बाबर का नाम व उपाधि अंकित थी।

बाबर ने तुर्की भाषा में अपनी आत्मकथा तुजक-ए-बाबरी की रचना की थी। इसे बाबरनामा (वाकियाते-बाबरी) के नाम से भी जाना जाता है। सर्वप्रथम अकबर के समय में इसका फारसी भाषा में अनुवाद पायंदा खां ने किया। इसके तुरंत बाद 1590 ई. में अब्दुर्रहीम खान ने इसका फारसी में अनुवाद किया। बाबरनामा का फारसी भाषा से अंग्रेजी अनुवाद सर्वप्रथम लीडन, अर्सकिन व एल्किंग ने 1826 ई. में किया।

मिजेस बैवरिज ने सर्वप्रथम मूल तुर्कीभाषा से इसका अंग्रेजी में अनुवाद 1905 ई. को किया। बाबर ने तुर्की भाषा में एक काव्य संग्रह दीवान का संकलन करवाया। उसने मुबड्यान नामक एक पद्यशैली का विकास करवाया। बाबर ने रिसाल-ए-उसज की रचना की जिसे खत-ए-बाबरी भी कहते हैं।

बाबर द्वारा लड़े गये प्रमुख युद्ध – Major battles fought by Babar

First-Battle-of-Panipat-min
First Battle of Panipat

1. पानीपत का प्रथम युद्ध -First Battle of Panipat (21 अप्रैल, 1526 ई.) इसमें बाबर ने इब्राहिम लोदी को हराकर भारत में मुगल वंश की स्थापना की थी। बाबर ने इस युद्ध में तुगलुमा युद्ध पद्धति व तोपखाने का प्रथम बार प्रयोग किया। तोपों को सजाने की उस्मानी पद्धति (दो गाड़ियों के बीच तोप रखना) का प्रयोग किया गया। युद्ध जीतने के बाद बाबर ने सरदारों को उचित पुरस्कार दिए (..)

हुमायू ने बाबर को कोहीनूर हीरा दिया। हुमायूं ने यह हीरा ग्वालियर के दिवंगत राजा विक्रमादित्य के परिवार से प्राप्त किया था। भारत विजय के उपर प्रत्येक काबुल निवासी को एक-एक चांदी के सिक्के उपहार में दिये। बाबर इस उदारता के लिए उसे कलन्दर कह कर पुकारा गया। पानीपत युद्ध के प्रत्यक्षता गुरूनानक थे। इस प्रकार दिल्ली सल्तनत के लोदी वंश का अंत हुआ।

2. खानवा का युद्ध -Battle of Khanwa (16 मार्च, 1527 ई.) खानवा सीकरी से 10 मील दूरी पर था जहां बाबर ने राणा सांगा (मेवार शासक) को हराया। युद्ध जीतने के बाद बाबर ने गाजी की उपाधि धारण की थी।

3. चंदेरी का युद्ध (29 जनवरी, 1528 ई.) इसमें बाबर ने मेदिनीराय को पराजित किया। मेदिनी राय की पुत्रियों में से एक को हुमायूं व दूसरी को कामरान को प्रदान किया गया था।

4. घाघरा का युद्ध (5 अप्रैल, 1529 ई.) इस युद्ध में बाबर ने घाघरा के तट (बिहार) पर अफगानों को पराजित किया। यह बाबर द्वारा लड़ा गया अंतिम युद्ध था। मध्यकालीन इतिहास में घाघरा का युद्ध प्रथम था जो जल व थल दोनों स्थलों पर लड़ा गया।

बाबर के आक्रमण के समय भारतीय राज्य

1. दिल्लीइब्राहीम लोदी
2. सिंधशाहबेग अरमून
3. कश्मीरमोहम्मद शाह
4. मालवामहमूद शाह-II
5. गुजरातबहादुर शाह
6. बंगालनुसरत शाह
7. मेवाड़ राणा सांगा
8 . विजयनगरकृष्णदेव राय

बाबर द्वारा निर्मित स्मारकBabar History in hindi

आगरा में ज्यामितीय विधि पर नूरे अफगान नामक बाग लगवाया जिसे आरामबाग कहा जाता है। बाबर ने सड़क मापने हेतु गज-ए-बाबरी नामक पैमाने का प्रयोग किया था।

बाबर ने खानवा युद्ध के उपरांत गाजी (काफिरो के विरूद्ध युद्ध) की उपाधि धारण की थी। इसमें मृतक शत्रुओं (राजपूतों) के मुण्डो के ढेर लगावाकर (मंगोली परम्परा) खुशी व्यक्त की थी।

मुगल शासक बाबर की मृत्युBabar Death

प्रो. सतीशचंद्रा के अनुसार मृत्यु लाहौर के निकट हुई,लेकिन बाबरनामा से स्पष्ट होता है कि बाबर की मृत्यु आगरा में 26 दिसंबर, 1530 ई. को हुई थी। गुलबदन बेगम (बाबर की पुत्री) की हुमायूंनामा के अनुसार इब्राहिम लोदी की मां के द्वारा जहर दिये जाने के कारण से हई थी।

अकबर ने बाबर का मकबरा आगरा से काबुल स्थानान्तरित करवाया था। बाबर के अलावा जहाँगीर तथा बहादुरशाह जफर ऐसे मुगल शासक जिनके मकबरे भारत से बाहर बनवाये गये थे।

Related Post – गुलाम वंश (1206 ई.-1290 ई.) – गुलाम वंश के प्रमुख शासक

FAQ: बाबर (1526-1530 ई.)

1. बाबर कहां का शासक था (Where was Babur the ruler)?

जवाब: फरगना का शासक

2. बाबर ने सड़क मापने हेतु कौन से पैमाने का प्रयोग किया था? (Which scale was used by Babur to measure the road?)

जवाब: गज-ए-बाबरी

3. बाबर ने पानीपत के प्रथम युद्ध किस पद्धति का प्रयोग किया था? (Which method was used by Babur in the first battle of Panipat?)

जवाब: तुगलुमा युद्ध पद्धति व तोपखाने का प्रथम बार प्रयोग किया

4. बाबर द्वारा किस युद्ध को जीतने के बाद गाजी की उपाधि धारण की ? (Babur assumed the title of Ghazi after winning which war?)

जवाब: खानवा का युद्ध (16 मार्च, 1527 ई.) जीतने के बाद बाबर ने गाजी की उपाधि धारण की थी

5. किस युद्ध में बाबर ने अफगानों को पराजित किया था?

जवाब: घाघरा का युद्ध (5 अप्रैल, 1529 ई.) इस युद्ध में बाबर ने घाघरा के तट (बिहार) पर अफगानों को पराजित किया।

6. कौन सा युद्ध बाबर द्वारा लड़ा गया अंतिम युद्ध था? (Which war was the last battle fought by Babur?)

जवाब: घाघरा का युद्ध (5 अप्रैल, 1529 ई.)

7. बाबर का पूरा नाम क्या था ? (What was the full name of Babur?)

जवाब: जहीर-उद-दीन मुहम्मद बाबर (Babur)

8. बाबर की कितनी रानियां थी? (How many queens did Babur have?)

जवाब: बाबर (Babur) 8 रानियां थी

Leave a Comment